हिंदी

बिटकॉइंस एटीएम स्थापित करने में भी अमेरिकी आगे

क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में भले ही काफी उतार चढ़ाव आते हैं लेकिन बिटकॉइंस एटीएम में केवल इज़ाफ़ा होता जा रहा है। दुनियाभर में अबतक 3000 से भी ज्यादा एटीएम स्थापित हो चुके है। गौर करने की बात यह है कि इस आंकड़ें का करीब 60 प्रतिशत हिस्सा केवल अमेरिका में है ,यानी यहाँ 2 000 एटीएम मशीन लोगों के लिए संचालित की जा रही है। बिटकॉइन डिजिटल करेंसी की सबसे प्रभावी है। जबकि अन्य क्रिप्टोकरेन्सियां वैल्यू के मामले में इससे काफी पीछे हैं इसी वजह से बिटकॉइन के इस्तेमाल करने वाले निवेशकों और ग्राहकों के लिए प्रतिवर्ष एटीएम की गिनती को बढ़ाया जा रहा है।

22 फीसदी हिस्सा यूरोप  में

आंकड़ों की बात करें तो रोबोकोईन के द्वारा 5 साल पहले बिटकॉइन एटीएम मशीन स्थापित की गयी थी। वर्तमान में यह संख्या बढ़कर 3,558 तक आ पहुंची है। इन एटीम का बड़ा हिस्सा अमेरिका मे है, जहाँ करीब 2,074 मशीने लोगों के लिए संचालित की जा रही है। हालांकि बिटकॉइन के साथ साथ अन्य क्रिप्टोकरेन्सियां भी इन मशीनों में प्रयोग में लाई जा रही हैं। वहीँ दूसरी और इन एटीएम 22 फीसदी हिस्सा यूरोप के खाते में है। जहाँ इन्हे अलग अलग शहरों में स्थापित किया गया है,  पिछले साल की बात करें तो 2017 में दुनिया में करीब 1400 एटीएम काम कर रहे थे।

क्रिप्टो न्यूज़ के मुताबिक बिटकॉइंस एटीएम की बढ़ती संख्या के पीछे निवेशकों का क्रिप्टोकरेंसी के प्रति झुकाव है। जबकि एटीएम स्थापित करने वाली कंपनियां अब न सिर्फ यहाँ बिटकॉइन को स्वीकार कर रही हैं, बल्कि लाइटकोइन , एथेरियम , बिटकोइन कैश और डैश उपयोगकर्ताओं को भी लेनदेन की सुविधा दे रही है। मशीनों के बढ़ने के साथ साथ सर्विस चार्ज में भी करीब 20 फीसदी तक की वृद्धि कर दी लेकिन ग्राहक इससे परेशान नहीं हो रहे है। एटीएम मशीन पर निवेशक या ग्राहक को प्रतिदिन 6 बार कार्य करने का विकल्प दिया गया है, जबकि कुछ राज्य इस संख्या को बढाकर मशीने संचालित कर रहे है।

[The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the views and/or the official policy of the website. ]
coinmag

Ashwani is a content writer, journalist and RJ. His words have touched millions over the past one decade through his articles and radio presentations. On OWLT Market, he is reaching out to Hindi readers.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *